Home > मातृ स्वर पत्रिका > ’12 लाख रुपए जमा कराओ फिर रामलीला दिखाओ’

’12 लाख रुपए जमा कराओ फिर रामलीला दिखाओ’

Representational photo (Twitter)

लाल किला मैदान की चर्चित लव कुश रामलीला कमेटी ने घोषणा की है कि इस बार लीला मंचन नहीं होगा। प्रशासन व पुलिस के अड़ियल रुख से परेशान लीला कमेटी के प्रधान अशोक अग्रवाल व सचिव अर्जुन कुमार ने कहा कि कोरोना की आड़ में प्रशासन व पुलिस ने अवरोधक बनकर आवंटन में अनुमति में कछुआगति दिखाई।

लाल किला मैदान ए एस आई के करणधारो ने शर्त रखी कि पहले 12 लाख रुपए जमा कराओ फिर रामलीला दिखाओ। उन्होंने कहा कि पहले निशुल्क मिलता था मैदान। उल्लेखनीय है कि इस मैदान में 3 प्राचीन रामलीलाएं होती हैं तथा देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री सहित अनेक विभूतियां लीला के अवलोकन हेतु आती रही हैं।

अशोक अग्रवाल ने कहा कि कमेटी ने लीला मंचन से पूर्व एक सभागार में बकायदा एक माह रिहर्सल की है। पात्रों की पोशाके मुंबई के फिल्मी दर्जियों से बनवाई। लीला मंचन में हर साल फिल्मी कलाकार आते हैं। इस बार भी फिल्मी हस्तियों को किरदार की भूमिका के लिए तैयार किया गया। प्रशासन व पुलिस के अड़ियल रुख से तंग आकर लीला मंचन को अगले साल तक स्थगित करने का फैसला लीला आयोजकों को करना पड़ा। लीला मंचन के लिए मंच व विराट बाड़ो के निर्माण में एक माह लगता है।

अब जबकि लीला मंचन में सिर्फ दस दिन शेष बचे हैं। अभी तक मैदान के आवंटन व पुलिस से अनुमति की प्रक्रिया अधर लटकी हुई है। अभी तक दिल्ली सरकार, पुलिस व प्रशासन की गाइडलाइन से लीला आयोजकों को अवगत नहीं कराया गया है। कोरोना का हौवा खड़ा करके दिल्ली की ऐतिहासिक रामलीला के मंचन में रुकावट डाली जा रही हैं।

सरकार, प्रशासन व पुलिस की भूमिका से राम भक्त कुपित हैं। अयोध्या राम मंदिर आंदोलन में दिल्ली की रामलीला कमेटियों ने शिला पूजन करके समर्थन दिया था। आज जबकि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण चल रहा है तब रामलीला के आयोजन पर प्रतिबंध एवं लाखों रुपए शुल्क तथा भारी बिजली बिल की वसूली पर प्रभु राम भी नाखुश होंगे। रामजी भला करे। सद्बुद्धि दे।

Share

Leave a Reply