Day

July 4, 2021

भारतीय टीम की कप्तान मिताली राज (Mithali Raj) ने शनिवार को खेल के सभी तीनों प्रारूपों को मिलाकर सबसे ज्यादा रन बनाने का गौरव हासिल किया. उन्होंने अपनी शानदार पारी से टीम को जीत भी दिलाई. लेकिन अभी भी उनकी रनों की भूख कम नहीं हुई है. उन्होंने कहा है कि उनकी रन बनाने की भूख अब भी वैसी ही है जैसे 22 साल पहले हुआ करती थी और वह अगले साल न्यूजीलैंड में होने वाले वनडे विश्व कप के लिए अपनी बल्लेबाजी को नए मुकाम पर ले जाने की कोशिश कर रही हैं.

मिताली की 89 गेंदों पर नाबाद 75 रन की पारी से भारत ने शनिवार को तीसरे और अंतिम वनडे में इंग्लैंड को चार विकेट से हराया. आयरलैंड के खिलाफ 26 जून 1999 को मिल्टन केयेन्स में अपने अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत करने वाली मिताली ने कहा, ‘‘जिस तरह से चीजें आगे बढ़ी हैं, यह यात्रा आसान नहीं रही. इसकी अपनी परीक्षाएं और चुनौतियां थी. मेरा हमेशा मानना रहा है कि परीक्षाओं का कोई उद्देश्य होता है.’’

https://www.youtube.com/watch?v=BF3DZkED8TM&t=24s
Video Credit: BCCI

मिताली ने माना कि कई बार कुछ कारणों से से उन्हें लगा था कि वह बहुत खेल चुकी हैं लेकिन किसी कारण वह लगातार खेलती रहीं. उन्होंने कहा, ‘‘ऐसा भी समय आया जब विभिन्न कारणों से मुझे लगा कि अब बहुत हो चुका लेकिन कोई ऐसी चीज थी जिससे मैं खेलती रही और अब मुझे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 22 साल हो गए हैं लेकिन रनों की भूख अब भी कम नहीं हुई हैं. उन्होंने वर्चुअल संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘मेरे अंदर अब भी वही जुनून है. मैदान पर उतरकर भारत के लिए मैच जीतना. जहां तक मेरी बल्लेबाजी का सवाल है तो मुझे लगता है कि इसमें अब भी सुधार की संभावना है और इस पर मैं काम कर रही हूं. कुछ ऐसे आयाम हैं जिन्हें मैं अपनी बल्लेबाजी में जोड़ना चाहती हूं. ’’